हनुमान भक्त भारतीय मूल का क्रिकेटर बना दक्षिण अफ्रीका का कप्तान……

दक्षिण अफ्रीका की क्रिकेट टीम इन दिनों खासा सुर्खियों में है। सुर्खियों में इसलिए है क्योंकि वहां की क्रिकेट टीम का कप्तान बदला गया है। लेकिन क्या आपको पता है कि अफ्रीका क्रिकेट टीम का कप्तान भारत से किस तरह जुड़ा हुआ है। आपको बता दें कि पहले अफ्रीका क्रिकेट टीम के कप्तान तेम्बा बावुमा थे। तेम्बा बावुमा अब क्रिकेट कप्तान नहीं रहेंगे क्योंकि उन्हें कुछ समय के लिए क्रिकेट से अलग रहने के लिए कहा गया है। अगर वह इस बात को नहीं मानते हैं तो उनकी सेहत के लिए अच्छा नहीं होगा। आइए आपको पूरी खबर विस्तार से बताते है।

तेम्बा बावुमा अब नहीं होंगे अफ्रीका क्रिकेट टीम का कप्तान

दरअसल इन दिनों दक्षिण अफ्रीका और श्रीलंका के बीच तीन दिवसीय क्रिकेट मैच का आयोजन हो रहा है। इस आयोजन के बीच में ही  दक्षिण अफ्रीका ने अपनी क्रिकेट टीम का कप्तान बदल दिया है। कप्तान बदलने का कारण बताते हुए जानकारी दी गई है कि पूर्व कप्तान तेम्बा बावुमा के हाथ में फैक्चर हो गया था। इसलिए अब पूर्व कप्तान पूरी सीरीज से अलग हो गए हैं। तेम्बा बावुमा अफ्रीका क्रिकेट टीम के  कप्तान रहते हुए कई ट्रॉफी अपने देश के नाम कर चुके है।

केशव महराज होंगे क्रिकेट टीम के नए कप्तान

आपको बता दें कि अफ्रीकी क्रिकेट टीम का नया कप्तान केशव महाराज होंगे। केशव महाराज को दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम की पूरी जिम्मेदारी दी गई है। अगर केशव महाराज की बात करें तो केशव महाराज दक्षिण अफ्रीका के लेफ्ट आर्म स्पिनर गेंदबाज हैं। या फिर यूं कहें कि बाय हाथों के खिलाड़ी हैं केशव महाराज। प्रत्येक भारतीय को यह विश्वास है कि अगर केशव महाराज आगे भी कप्तानी करे तो यह भारत के साथ-साथ अफ्रीका के लिए भी बहुत अच्छा काम होगा।

Also Read:- जोगी के रूप में लौटा पति, 22 साल से पत्नी विधवा की तरह जी रही थी जिंदगी……

कौन है केशव महाराज

केशव महाराज भारतीय मूल के अफ्रीकी क्रिकेटर हैं। दक्षिण अफ्रीकी कप्तान केशव महाराज हनुमान जी को बहुत ही श्रद्धा से मानते हैं। उन्हें हनुमान भक्त भी कहा जाता है। वे समय-समय पर अपने सोशल मीडिया हैंडल के माध्यम से भगवान की मूर्ति साझा करते रहते हैं। केशव महाराज एक समय में रोजगार के लिए अफ्रीका गए थे लेकिन किसी कारणवश वे वहीं बस गए। हालांकि, केशव आज भी हिंदू संस्कृति को संजोए हुए हैं। केशव महाराज पूजा करने के लिए बजरंग बली के मंदिर भी जाते रहते हैं।