8.1 C
New York
Sunday, April 21, 2024

Buy now

लालू की पार्टी RJD ने आरक्षण को लेकर कर दिया ऐसा ट्वीट

Bihar: बिहार की सियासत में जाति का बोल बाला है। आजादी के इतने वर्षों के बाद भी बिहार (Bihar) में लोग जात-पात की राजनीति से बाहर नहीं निकल पाये है। अभी भी राजनीतिक दल जाति आधारित राजनीति करते है। इसका एक नमूना हाल ही में देखने को मिला है। लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) की पार्टी RJD ने जाति आधारित जनगणना को लेकर एक ऐसा ट्वीट (Tweet) कर दिया है। जिसकी सभी लोग निं दा कर रहे है। आरजेडी (RJD) का यह ट्वीट किसी भी मायने में सही नहीं कहा जा सकता है। ट्वीट की भाषा भी निन्म स्तर की है।

मुट्ठी भर ब्राह्मण संगठन आरक्षण नहीं हटा सकते- आरजेडी

बिहार में जाति आधारित जनगणना ने एक अलग ही तूल पकड़ लिया है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) का कहना है कि यह राजनीतिक नहीं, सामाजिक मामला है। इससे किसी भी प्रकार का कोई माहौल नहीं बिग ड़ेगा। जबकि बिहार की मुख्य वि पक्षी पार्टी आरजेडी ने इस मुद्दे से जुड़ा एक बेतुका ट्वीट कर मामले को पूरी तरह से राजनीतिक कर दिया है। आरजेडी ने निन्म स्तर की भाषा का प्रयोग करते हुए ब्राह्मण समाज को नि शाने पर लिया और आरक्षण को लेकर ऐसी बात कर दी, जो किसी को भी पसंद नहीं आया। आरजेडी का कहना है कि मुट्ठी भर ब्राह्मण आरक्षण नहीं हटा सकते है।

आरजेडी ने किया भड़ काऊ ट्वीट

जाति आधारित जनगणना से असहमति जताते हुए आरजेडी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया। इस ट्वीट की भाषा निम्न स्तर की है। इसके आगे राजद ने आरएसएस को टैग करते हुए लिखा, ”तुम्हारी सारी चालाकियाँ समझते है। तुम सोचते हो सब बेच आरक्षण को बैकडोर से ख़ त्म कर देंगे। नहीं होने देंगे।”

Also Read:- जिनके शासन काल में कश्मीर से बेघर हुए कश्मीरी पंडित, वो खुद आकर कह रहे मुझ में बची है कश्मीरियत

RSS से जुड़ा है पूरा मामला

दरअसल यह पूरा मामला RSS से जुड़ा हुआ है। कुछ दिन पहले आरएसएस ने आरक्षण को लेकर एक बयान दिया था। जिसमें आरएसएस ने आरक्षण की व्यवस्था का मजबूती से समर्थन किया था। यह बयान आरएसएस के जनरल सेक्रेटरी दत्‍तात्रेय होसबोले ने दिया था।

राजनीति कर रही आरजेडी

जाति आधारित जनगणना ने बिहार में कुछ ज्यादा ही तूल पकड़ लिया है। इसको राजनीतिक मुद्दा बनाकर आरजेडी सत्ता में आने के सपने देख रही है। इसलिए ही आरएसएस द्वारा दिया गया सकारात्मक बयान भी पसंद नहीं आया।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles