CM योगी ने औवेसी को लेकर कही ये बात…..

आप लोगों को पता ही है कि उत्तर प्रदेश(UP) में चुनाव (Election) आने वाली है । जिससे सभी राजनीतिक पार्टियां चुनाव की तैयारी में जुट गई है। इसी में हैदराबाद के AIMIM पार्टी के नेता ओवैसी भी उत्तर प्रदेश में आकर अपने चुनाव प्रचार में लगे हैं । CAA और NRC के नाम पर लोगों से कुछ कह रहे हैं। इस बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath)ओवैसी को लेकर क्या कहा। जानिए पूरी खबर विस्तार से ।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ओवैसी लेकर दिया यह बयान।

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने AIMIM के नेता ओवैसी पर बयान दिया। उन्होंने ये बात लोगों को संबोधित करते हुए कहा। कि असदुद्दीन ओवैसी CAA के जरिए प्रदेश में राजनीति कर रहे हैं। वह एक वर्ग के लोगों को बांटना चाहते है । इस बात को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने असदुद्दीन ओवैसी से कहा वह लोगों को बांटना बंद करे। अगर वह ऐसा नहीं करते तो मुझे श क्ति के साथ नि पटना पड़ेगा ।योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश के लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि 2017 से पहले हर तीसरे चौथे दिन प्रदेश में कहीं ना कहीं स्थति खराब रहती थी। लेकिन जब से बीजेपी सरकार सत्ता में आई है। तब से प्रदेश की स्थति अच्छी हो गयी है।

मुख्तार अब्बास नकवी ने CAA को लेकर क्या कहा?

मैं चाचा जान अब्बा जान के अनुयायियों से कह रहा हूं कि अगर प्रदेश में स्थति अस्थिर हुई । तो मैं अपनी तरह से देखूंगा। वैसे तो हर कोई जानता ही है कि ओवैसी जी समाजवादी पार्टी के एजेंट बनकर प्रदेश में लोगों को धर्म के नाम पर अलग कर रहे हैं। आप लोगों को बता दूं । केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने रविवार को नागरिकता संशोधन अधिनियम पर कहा कि सीए को लेकर फिर से प्रदेश में राजनीति शुरू हो गई है कुछ लोग CAA को वापस लेने की मांग कर रहे हैं।

Read Also:-किसानों को ट्रेनिंग देंगे,समझाएंगे फिर लागू करेंगे ये तीनों कानून- कृषि मंत्री, देखें वीडियो….

CAA का क्या मतलब है?

लोगों को यह नहीं पता कि यह किसी की नागरिकता छिनने के लिए नहीं है बल्कि बांग्लादेश, पाकिस्तान, अफ़गानिस्तान ,हिंदू और सिखों एवं उ त्पीड़न का शिकार अल्पसंख्यकों को नागरिकता प्रदान करने के लिए है। लोगो अनुच्छेद 370 के वापस लेने के लिए भी बोल रहे है । लेकिन लोगों को यह नहीं पता कि अनुच्छेद 370 हटने से जम्मू कश्मीर और लद्दाख में स मस्याओं का समाधान हुआ है और लोगों का विकास हुआ है।