किसानों को ट्रेनिंग देंगे,समझाएंगे फिर लागू करेंगे ये तीनों कानून- कृषि मंत्री, देखें वीडियो….

इन दिनों सोशल मीडिया (Social Media) पर कृषि मंत्री द्वारा जारी एक बयान खूब देखा जा रहा है। सोशल मीडिया यूजर्स कृषि मंत्री (Agriculture Minister) द्वारा कृषि कानून (Farm Bills) को लेकर बयान देने के बाद ही ट्वीट करते नजर आ रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस पार्टी (Congress) के नेता भारतीय जनता पार्टी (BJP) को आड़े हाथों लेने की कोशिश कर रहे हैं। इस खबर के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि आखिरकार कृषि मंत्री ने अपने बयान में क्या कहा है? क्यों किसान कृषि मंत्री द्वारा जारी बयान को लेकर चर्चाएं कर रहे हैं। आइए आपको पूरी खबर विस्तार से बताते हैं।

पीएम मोदी ने कृषि कानून वापस लेने का लिया निर्णय

जैसा कि आपको पता है कि हाल ही में हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने जनता को संबोधित करते हुए एक बहुत ही अहम जानकारी दी थी। जानकारी देने के बाद एक तरफ किसान खुशियां मनाते नजर आ रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस तथा अन्य पार्टी के नेता इसे अपनी जीत बताने में लगे थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साफ तौर पर कह दिया है कि तीनों कृषि कानूनों को जल्दी ही संसदीय प्र क्रिया के तहत वापस ले लिया जाएगा। इसके बाद ही कृषि मंत्री ने एक बयान दिया है।

कृषि मंत्री ने कहा फिर लाएंगे कृषि कानून

मध्य प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल (Kamal Patel) ग्वालियर के एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी पहुंचे थे।  उन्होंने वहां एक बहुत ही अहम बयान दिया है। बयान देते हुए उन्होंने कहा है कि पहले किसानों को प्रशिक्षित करेंगे। उनको समझाएंगे और जब किसान पूरी तरह से सहमत हो जाएंगे तब कृषि कानून को एक बार फिर से लाएंगे। कृषि मंत्री द्वारा इस तरह का बयान देने के बाद ही मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) ने भारतीय जनता पार्टी को आड़े हाथों लेने की कोशिश की है।

Also Read:- सपा विधायक असलम चौधरी ने BJP विधायक नंदकिशोर गुर्जर को कही ये बात…

दिग्विजय सिंह ने कहा बीजेपी पर भरोसा नहीं

मध्य प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल (Kamal Patel) द्वारा बयान देने के बाद ही वहां के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने एक बयान दिया है। आपको बता दें कि दिग्विजय सिंह कांग्रेस पार्टी के एक बहुत ही अहम नेता है। दिग्विजय सिंह ने भारतीय जनता पार्टी को आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि इस पार्टी के नेताओं पर भरोसा नहीं किया जा सकता। सिर्फ इतना ही नहीं उन्होंने यह भी कहा है कि बीजेपी पार्टी के नेता अलग-अलग तरह से बयान दे रहे हैं। जब तक कृषि कानूनों की वापसी संसद से ना हो तब तक किसानों को अपनी मां ग करते रहना चाहिए।