राकेश टिकैत का टू’ट रहा हौसला…..

तीन कृषि कानूनों(Farm Bill) को लेकर शुरू हुआ किसान आं’दोलन अभी तक जारी है। लेकिन अब ये किसानों का कम और राजनीतिक लोगों का आंदो’लन ज्यादा हो गया है। लालकिले(Red Fort) पर हुई शर्मनाक करतूत के बाद किसान, आंदो’लन का समर्थन बंद कर वापस अपने घर लौट गए। अब जो किसान धरने पर बैठे है, वह राकेश टिकैत(Rakesh Tikait) और अन्य राजनीतिक लोगों द्वारा बहकाये गए है। हाल ही में एक समाचार चैनल को दिए इंटरव्यू(Interview) में राकेश टिकैत ने अपने मुंह से ही किसान आंदो’लन की हकीकत बया कर दी। वह कह रहे है, अपनी जेब से पैसा लग रहा है, मगर आंदो’लन तो किसी तरह करना ही पड़ेगा।

अपनी जेब से लग रहा पैसा- राकेश टिकैत

हाल ही में तथाकथित किसान नेता राकेश टिकैत(Rakesh Tikait) ने हिंदी समाचार चैनल न्यूज़ 24(News 24) को एक इंटरव्यू दिया है। इस इंटरव्यू में विप’क्ष की भूमिका में किसानों के आ जाने के सवाल का जवाब देते हुए राकेश टिकैत ने कहा- “भई , जेब से तो हमारे जा रहा है। जिसकी जेब से पैसा जाएगा, वह आंदो’लन करेगा। पर विप’क्ष को भी करना चाहिए। विपक्ष बोल नहीं रहा…मतलब इतना नहीं ड  र’ना चाहिए। उसे सामने आना चाहिए। अब पता नहीं किसके कान सरकार ने दबा रखे हैं।

नए मंत्रिमंडल पर टिकैत ने कसा तं‘ज

हाल ही में हुए कैबिनेट विस्तार पर भी राकेश टिकैत ने तंज कसते हुए कहा कि मिनिस्टर का मतलब स्टैंप (मुहर) भर नहीं होता है। हाल तो ये है कि मौजूदा सरकार में मंत्री जानते ही नहीं है कि उनके वहां समझौते बाहर से हो रहे हैं। उन्हें इस बारे में कुछ भी जानकारी नहीं है। आगे टिकैत ने कहा, मंत्री बनते है तो उन्हें पावर भी दे देना चाहिए।

Also Read:- मंत्री नहीं बने सुशील मोदी पर तेज प्रताप का तंज…

प्रतिदिन जाएंगे संसद का घेराव करने – किसान नेता

संसद घेराव के मामले पर बात करते हुए किसानों कि रणनीति पूछे जाने पर किसान नेता ने कहा कि “संसद सत्र की शुरुआत होने पर प्रतिदिन वहां 200 किसान जाया करेंगे। सत्र कि समाप्ति होने के बाद शाम के समय वे घर को लौट आएंगे। अगले दिन फिर से वे जाएंगे। सरकार और पुलिस 200 बार भी मना करेंगे? तब भी हम उन्हें बताकर जाएंगे और फिर वापस भी आएंगे।” बीकेयू ने गुरुवार को ऐलान किया है कि उत्तर प्रदेश राज्य में जिला स्तरीय बैठक शुरू हो गई है और कई मुद्दों को लेखांकन किया गया है।