भारत के इस कदम से चीन को रोकना पड़ा यह प्लांट…!

चीन (China) को लेकर भारत सरकार (Indian Government) की ओर से समय-समय पर एडवाइजरी ( Advisory) जारी की जाती है। चीन हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान (Pakistan) और श्रीलंका (Sri lanka) से दोस्ती बढ़ाने के लिए उन्हें कुछ भी देने के लिए तैयार है। जैसा कि आपको पता है कि चीन और पाकिस्तान बीते कई वर्षो से दोस्त है। ठीक इसी तरह चीन हमारे पड़ोसी देश श्रीलंका से भी दोस्ती बढ़ाने की कोशिश में है। भारत ने कुछ ऐसा किया है जिसके कारण चीन श्रीलंका से किसी भी कीमत पर दोस्ती नहीं कर सकता है। आइए आपको पूरी खबर विस्तार से बताते हैं।

चीन ने लिया एक अहम निर्णय

आपको बता दें कि चीन श्रीलंका से दोस्ती करने के लिए हर वह कार्य करना चाहता है जिससे कि श्रीलंका के नागरिक (Citizen) खुश हो जाए और श्रीलंका के लोगों को लाभ मिले। चीन श्रीलंका में बीते कई वर्षो से एक परियो जना पर कार्य कर रहा था। लेकिन भारत (India) की ओर से बार-बार यह कहा जा रहा था कि चीन किसी भी कीमत पर श्रीलंका में कोई भी निर्माण कार्य नहीं कर सकता। क्योंकि श्रीलंका हमारा पड़ोसी देश है। भारत सरकार के द्वारा बार-बार कहने के बाद ही चीन ने अपने परि योजना कार्य को रो कने का निर्णय लिया है।

चीन बना रहा था सोलर पा वर प्‍लांट

चीन श्रीलंका में सोलर (Solar) पा वर प्लांट बना रहा था। इसके लिए चीन ने श्रीलंका को ठेका दिया था। इसे तीन उत्‍तरी द्वीपों पर बनाया जा रहा था। आपको बता दें कि यह कार्य भारत के बहुत करीब हो रहा था। यही वजह है कि भारत की तरफ से इसे लेकर सहमति नहीं बन रही थी। भारत और श्रीलंका के बीच इसे लेकर कई बार बातचीत हुई थी। लेकिन कई बार बात नहीं बनने के बाद अब चीन ने अपने परियो जना कार्य पर रो क लगा दिया है। इससे भारत देश को बहुत ही ज्यादा लाभ होगा।

Also Read:- इजराइल ने ईरान को लेकर कह दी ये बात…

तमिलनाडु के पास भी बन रहा था सोलर प्लांट

तमिलनाडु (TamilNadu) के पास भी चीन एक सोलर प्लांट बना रहा था। इसे लेकर भी चीन ने एक अहम निर्णय लिया है। चीन भारत को चारों तरफ से घे रने की कोशिश में है। भारत सरकार को यह पता है कि चीन भारत के चारों तरफ अपने लोगों को तैयार करना चाहता है इसे देखते हुए। भारत सरकार की तरफ से समय-समय पर एडवाइजरी जारी की जाती है। हालांकि भारत के द्वारा कहे जाने के बाद ही चीन अब झु क चुका है। यह हमारे देश की सु रक्षा के लिए बहुत जरूरी था।