भारत में टेस्ला की एंट्री से पहले Elon Musk ने PM मोदी से लगाई गुहार, जानें भारत से क्या चाहते हैं मस्क?

दुनिया की सबसे लोकप्रिय इलेक्ट्रिक कार कंपनी टेस्ला इंक (Tesla inc.) जल्द से जल्द भारतीय बाजार में प्रवेश करना चाहती है. कंपनी भारतीय बाजार (Auto market) में प्रवेश से पहले भारतीय बाज़ार में टैक्स काम लगे ये आश्वासन चाहती है. इसी के मद्देनजर टेस्ला (Tesla) ने बाजार में प्रवेश करने से पहले प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) कार्यालय से इलेक्ट्रिक वाहनों पर आयात करों को कम करने का आग्रह किया है. रायटर्स की खबर के मुताबिक, टेस्ला पीएमओ ऑफिस से संपर्क करके इलेक्ट्रिक कार पर आयात शुल्क में कमी करने की अपील की है. हालांकि, घरेलू कार कंपनियां टेस्ला को टैक्स में किसी तरह की छूट का मुखर वि रोध कर रही हैं.

Tesla इस साल भारत में आयातित कारों की बिक्री शुरू करना चाहती है, लेकिन उनका कहना है कि भारत में टैक्स दुनिया में सबसे ज्यादा हैं. टैक्स में कमी के लिए कंपनी ने भारत सरकार से पहली बार जुलाई में अपील की थी. जिसके बाद से घरेलू कंपनियां आप त्ति जता रही है. घरेलू कंपनियों का मानना है कि इस तरह के कदम से घरेलू विनिर्माण में निवेश बाधित होगा.

पीएम मोदी से मिलना चाहते हैं एलन मस्क :

रायटर्स को चार सूत्रों ने बताया कि टेस्ला ने इस मामले पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से कंपनी के प्रमुख एलन मस्क (Elon musk) की मुलाकात के लिए भी वक्त मांगा है. इस मामले में भारत में टेस्ला के पालिसी प्रमुख मनुज खुराना समेत शीर्ष अधिकारियों ने पिछले महीने पीएमओ में एक गुप्त बैठक की. इसमें कंपनी अधिकारियों ने कहा कि देश में टैक्स की दरें दुनियाभर में सबसे अधिक की श्रेणी में हैं. हालांकि, अभी यह स्पष्ट नहीं है कि टेस्ला को पीएमओ से क्या जवाब मिला है.

Aslo Read : Facebook पर होने जा रहा है ब ड़ा बदलाव, बदल जाएगा इस्तेमाल करने का अंदाज

कंपनी आयातित कारों की बिक्री इसी वर्ष शुरू करना चाहती है. टेस्ला भारत में अपनी आयातित कारों की इसी वर्ष बिक्री शुरू करना चाहती है. बैठक में टेस्ला का कहना था कि अगर टैक्स दरें घटाई नहीं गई तो कंपनी के लिए भारत में कारोबार करना व्यवहार्य नहीं रह जाएगा. इस बाजार में 40,000 डालर यानी करीब 30 लाख रुपये मूल्य तक के वाहनों पर 60 प्रतिशत आयात शुल्क है, लेकिन उससे अधिक मूल्य के वाहनों पर 100 प्रतिशत शुल्क लगता है. अगर शुल्क की यही दरें प्रभावी रहीं तो ग्राहकों के लिए टेस्ला कारें लगभग पहुंच के बाहर हो जाएंगी.

आयात कर को लेकर पहले भी कई company भारत सरकार से आग्रह कर चुकीं हैं कि ये कर कम हो. आपको याद होगा कि Harley Davidson की भी यही डिमांड रही है कि आयात शुल्क कम हो.