कर्नाटक के कॉलेज में केसरिया शॉल में उतरे छात्र! जानिए पूरा मामला…

कर्नाटक  (Karnataka) के कोपा (Kopa) में स्थित एक सरकारी महाविद्यालय है। इस महाविद्यालय से हिजाब पहनने को लेकर एक बहुत ही अहम खबर आ रही है। इस खबर के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि आखिर मु स्लिम लड़कियों हि जाब पहनने के कारण कुछ अन्य छात्र (Student) भगवा रंग का गमछा क्यों पहन रहे हैं। इस खबर के माध्यम से हम आपको कर्नाटक के कोपा में स्थित महाविद्यालय से जुड़ी कई अन्य जानकारियां भी देने वाले हैं। आपको बताते चलें कि इससे पहले भी इस तरह के मामले हमारे देश के कई राज्यों से देखने को मिले हैं। आइए आपको पूरी खबर विस्तार से बताते हैं।

मु स्लिम लड़कियों को हिजाब पहनने के कारण लड़के नहीं है खुश

कर्नाटक के कोपा में मौजूद सरकारी महाविद्यालय (College) में मु स्लिम समुदाय की लड़कियां हिजाब पहनकर पढ़ाई करने जाती है। इसी वजह से इस महाविद्यालय के कुछ छात्र बीते कई महीनों से कॉलेज से यह मांग कर रहे थे कि लड़कियां हि जाब का इस्तेमाल ना करें। हालांकि कॉलेज के द्वारा इस मामले को लेकर किसी भी तरह से लड़कियों को मना नहीं किया गया था। किसी कारण से महाविद्यालय के छात्रों ने खुद से ही उन लड़कियों को सब क सिखाने का निर्णय लिया।

विद्यार्थियों ने भगवा रंग का पहना शोल

महाविद्यालय के विद्यार्थियों ने भगवा रंग का शोल पहन कर आना शुरू कर दिया था। ऐसा होता देख कॉलेज के कई छात्र खुश नहीं थे तो वहीं दूसरी तरफ कुछ ऐसे भी छात्र थे। जो इसके साथ सहमति जता रहे थे। विद्यार्थियों को भगवा रंग का स्कार्फ पहनकर कक्षा में आने की अनुमति दे दी गई थी। वहीं दूसरी तरफ कुछ महिलाएं काले रंग का भी स्कार्फ इस्तेमाल कर रही थी। हालांकि शुरुआती समय में लड़कियों (Girls) को हि जाब पहनने के लिए मना किया गया था।

Also read:- सपा महिला उम्मीदवार ने ‘ओले-ओले’ गाने पर किया जबरदस्त डांस, वीडियो देख…

10 जनवरी तक सभी अपनी इच्छा अनुसार पहन सकते हैं कपड़े

कॉलेज में भगवा रंग का स्कार्फ इस्तेमाल होता देख शिक्षकों (Teachers) के द्वारा कहा गया था कि कोई भी इस तरह का कपड़ा इस्तेमाल ना करें। इस मामले को राजनीतिक रुप लेता देख बाद में कॉलेज की ओर से साफ तौर पर कहा गया था कि 10 जनवरी तक कोई भी छात्र अपनी इच्छा के अनुसार कपड़े पहन कर कॉलेज जा सकता है। आपको बताते चलें की यह मामला बालागाडी  (Balagadi) स्थित राजकीय डिग्री कॉलेज का है।