करतारपुर गुरुद्वारा पहुंचे सिद्धू ने पाकिस्तान की तारीफ में पढ़े कसीदे !

पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) करतारपुर कॉरिडोर (Kartarpur Corridor) खुलने के बाद आज यानी शनिवार को गुरुद्वारा करतारपुर साहिब पहुंचे हैं। आपको बता दें कि करतारपुर कॉरिडोर खुले हुए अभी 3 दिन हो गए हैं। 3 दिनों बाद नवजोत सिंह सिद्धू करतारपुर साहिब पहुंचे हैं। करतारपुर साहिब में उन्होंने मत्था टेका। वहां के लोगों ने उनका बहुत अच्छे से स्वागत किया। इसके साथ ही साथ उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (PM Imran Khan) को लेकर क्या कुछ कहा है। आइए आपको पूरी खबर विस्तार से बताते हैं।

नवजोत सिंह सिद्धू ने की इमरान खान की तारीफ

करतारपुर साहिब पहुंचने के बाद नवजोत सिंह सिद्धू ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की तारीफ की है। सिर्फ इतना ही नहीं उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को अपना दोस्त तक बताया है। जैसा कि आपको पता है कि नवजोत सिंह सिद्धू को इमरान खान का करीबी माना जाता है। नवजोत सिंह सिद्धू कई बार इमरान खान से मुलाकात कर चुके हैं। पहले इस तरह की खबरें आती रही है।

इमरान खान मेरे बड़े भाई की तरह है– नवजोत सिंह सिद्धू

करतारपुर कॉरिडोर खुलने के बाद नवजोत सिंह सिद्धू वहां पहुंचे हैं। वहां पहुंचकर उन्होंने करतारपुर परियोजना प्रबंधक इकाई के मुख्य कार्यकारी अध्यक्ष मो हम्मद लतीफ से मुलाकात की है। लतीफ और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच भारत और पाकिस्तान को लेकर कई तरह की बातचीत हुई है। इस दौरान उन्होंने कहा है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान मेरे ब ड़े भाई की तरह है। उन्होंने मुझे बहुत प्यार दिया है।

Also Read:- विधानसभा में पत्नी की ‘बेइजत्ती’ पर रोए पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू, कहा- अब CM बनने के बाद ही सदन में लौटूंगा…

चन्नी के साथ नहीं मिली थी जाने की इजाजत

आपको बता दें कि करतारपुर कॉरिडोर खुलने के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjeet Singh Channi) के साथ नवजोत सिंह सिद्धू जाने वाले थे। बीते बुधवार को नवजोत सिंह सिद्धू को बताया था कि 20 नवंबर यानी आज नवजोत सिंह सिद्धू करतारपुर साहिब गुरद्वारा में जाने के लिए वीआईपी की तीसरी लिस्ट में उनका नाम शामिल है। सिद्धू के मीडिया सलाहकार जगतार सिद्धू ने बताया कि फॉर्म भरने के बाद भी उन्हें चरणजीत सिंह चन्नी के आधिकारिक प्रतिनिधिमंडल के साथ जाने की इजाजत नहीं दी गई।