RSS प्रमुख मोहन भागवत ने उठाई अखंड भारत की मां ग ! बोले “हिन्दू अगर हिन्दू बने रहना चाहते हैं तो..”

मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) के अध्यक्ष हैं। वह समय समय पर अपने विचार देते रहते हैं। हाल ही में उन्होंने एक बयान दिया हैं। उनके इस बयान को लेकर हर जगह चर्चा हैं। सोशल मीडिया से लेकर अख़बार, टीवी ओर रेडियो में भी उनका यह बयान सुर्खिया बटोर रहा हैं। मोहन भागवत हिंदुत्व (Hindutava) की बात करते हैं। वह लगातार हिंदुत्व को आगे बढ़ने का काम करते रहते हैं। उन्होंने अपने बयान में हिंदुत्व को लेकर क्या कुछ कहा हैं ओर क्यों उनके बयान की सब जगह चर्चा हो रही हैं। आइये आपको पूरी ख़बर विस्तार से बताते हैं।

भारत को अखंड भारत बनाना होगा- मोहन भागवत

भारत में समय समय पर हिन्दू राष्ट्र की मां ग उठती रहती हैं। इस बीच RSS प्रमुख मोहन भागवत ने हिंदुत्व को लेकर एक बयान दिया है। एक कार्यक्रम के दौरान मोहन भागवत ने कहा हैं कि हम हिन्दू है और ये देश हमारा है। भारत में हिन्दुओं कि संख्या घट रही हैं। हिंदुत्व का भाव घट रहा हैं। हिन्दू को हिन्दू बने रहना हैं तो भारत को अखंड भारत बनाना होगा। आगे वह कहते हैं कि हिन्दुओं पर कोई भी परे शानी आएगी तो में उनके साथ सबसे पहले खड़ा रहूंगा। वह अखंड भारत बनाने कि बात कर रहे हैं।

अखंड भारत के लिए सबको एक साथ करना होगा काम

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बयान के बाद एक बार फिर से हिन्दू राष्ट्र कि मां ग जोर पकड़ रही हैं। कई लोग मोहन भागवत के बयान से सहमति जाता रहे हैं। वही दूसरी तरफ कुछ लोग उनके बयान से सहमत नहीं हैं। इतिहास को याद दिलाते हुए मोहन भागवत ने कहा कि जब जब हम हिन्दू भाव को भूले तब तब देश के सामने संक ट आया है। अगर हम लोगों को भारत की प्रतिष्ठा को बढ़ाना है तो देश के सभी वर्गों को साथ मिलकर काम करना होगा।

Also Read:- साइकिल की सवारी के लिए तैयार चंद्रशेखर रावण ! अखिलेश यादव से मुलाकात में कही ये बात…

मध्यप्रदेश के ग्वालियर में मोहन भागवत ने कहा

आप लोगो को बात दे कि मोहन भागवत मध्यप्रदेश के ग्वालियर में एक कार्यक्रम में शामिल हुए थे। इस कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए उन्होंने हिंदुत्व को लेकर यह बयान दिया था। उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान एक हिन्दू राष्ट्र है और उसका उद्भव हिंदुत्व था। हिन्दू भारत से अलग नहीं हो सकते है। अगर भारत को अपनी पहचान बनाये रखनी है, तो उसे हिन्दू बने रहने के साथ भारत को अखंड भी बनाना होगा।