ब्राह्मण परिवार के इतने सदस्य धर्म बदलने को हुए मजबूर, PM मोदी को पत्र लिख बताई बेबसी

देश में एक तरफ विभिन्न राज्य सरकारें धर्म परिवर्तन, जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कानून ला रही है। वहीं दूसरी तरफ इस तरह के मामले लगातार सामने आ रहे है। ताजा खबर मध्यप्रदेश(Madhya Pradesh) के ग्वालियर(Gwalior) से आ रही है। जहां पर एक ब्राह्मण परिवार के 25 सदस्यों ने इ स्लाम धर्म अपनाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी(PM Narendra Modi) को पत्र(Letter) लिखकर आगाह किया है। जो इस खबर को सुन रहा है, वह हैरान है। आइये आपको पूरी खबर विस्तार से बताते है।

धर्म परिवर्तन करने को मजबूर कर रहा पड़ोसी परिवार

आये दिन मीडिया में धर्म-परिवर्तन की खबरें देखने, सुनने और पढ़ने को मिलती रहती है। लेकिन ये मामला थोड़ा अलग है। खुद को हिंदुत्व का ठेकेदार समझने वाली भाजपा(BJP) और उससे जुड़े लोगों के कारण ही मध्यप्रदेश का ये ब्राह्मण परिवार मु स्लिम धर्म अपनाने की सोच रहा है। दरअसल मामला ये है कि ब्राह्मण परिवार अपने पड़ोस के हिन्दू परिवार की प्र ता’ड़ना से दुःखी है। पड़ोस में रहने वाले हिन्दू परिवार जानकर ब्राह्मण परिवार को परे’शान करते है। एससी-एसटी एक्ट(SC-ST Act) लगाने की बात करते है। इनमें से कुछ लोग भाजपा और अन्य हिंदूवादी संगठनों से जुड़े हुए है। इसलिए पुलिस भी ब्राह्मण परिवार की सुनवाई नहीं करती है।

मु स्लिम समाज ही मदद की आस

ब्राह्मण परिवार ने एसडीएम कार्यालय में ज्ञापन भी सौंपा है कि उन्हें धर्म बदलने की अनुमति दी जाये। क्योंकि कोई हिंदू उनकी मदद नहीं कर रहा है, तो ऐसे में अब मु स्लिम समाज से ही मदद की आस है। हालांकि मामले के मीडिया में आ जाने के बाद पुलिस और प्रशासन ने ब्राह्मण परिवार को भरोसा दिलाया है कि उनकी सु ‘रक्षा प्रशासन की जिम्मेदारी है। मंगलवार को सीएसपी लश्कर आत्माराम शर्मा ने पी’ड़ित परिवार से मुलाकात कर मदद करने का अश्वासन दिया है।

Also Read:- CM हिमंता बिस्वा सरमा ने विधानसभा में पेश किया एक नया विधेयक, शुरू हुई चर्चा

सोशल मीडिया पर वायरल हुआ प्रधानमंत्री को लिखा पत्र

ब्राह्मण परिवार अपने पड़ोसी परिवार से इतना परेशान हो गया कि धर्म बदलने के लिए मजबूर हो गया। अपनी आपबीती बताते हुए ब्राह्मण परिवार ने 9 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा था। जिसमें अजय और उनके परिवार के 25 सदस्यों ने हिंदू धर्म छोड़कर मु स्लिम धर्म अपनाने की बात कही। प्रधानमंत्री को लिखा ये पत्र सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है।