जान लीजिए SPG का सुर क्षा कानून1988…

5 जनवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) पंजाब (Punjab) में परियोजनाओं का शिलान्यास करने के लिए गए थे। लेकिन रास्ते में ही कुछ लोगों ने उनको घेर लिया था। उसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM narendra Modi) वहां से वापस लौट आए। इस तरह प्रधानमंत्री का वापस लौट आना। प्रधानमंत्री की रक्षा के लिए पंजाब सरकार पर सवाल उठ रहे है। आपको बता दें कि इस 3 जनवरी को ही एसपीजी (SPG) ने पंजाब पुलिस के DGP को चिट्ठी लिखकर बोला था कि पीएम मोदी को पाकिस्तानियों (Pakistanis) से बचा कर रखना है। प्रधानमंत्री की रक्षा के लिए एसपीजी को को बनाया था।

एसपीजी ने पंजाब सरकार पुलिस के DGP  लिखी चिट्ठी

इस चिट्ठी से पता चलता है कि पंजाब पुलिस (Punjab Police) के अधिकारियों प्रधानमंत्री की सु रक्षा को लेकर सब कुछ बता दिया गया था। लेकिन उन्होंने एसपीजी (SPG) की चिट्ठी को नजरअंदाज कर दिया था। मतलब यह कि पंजाब सरकार (Punjab Government) में और पुलिस ने सरकार की बातों को नजरअंदाज किया था। इसके लिए केंद्र सरकार पंजाब पुलिस पर सीधे कार्यवाही कर सकती है। इसके लिए 1988 में एक कानून बनाया था। जिसमे सरकार बिना राज्य की इजाजत के राज्य की पुलिस के अधिकारियों पर कार्यवाही कर सकती है।

क्या कहता है SPG कानून 1988?

SPG कानून को 1984 के बाद बनाया गया था। अब लोगों को पता नहीं कि यह कानून पंजाब की देन है क्योंकि 1984 में प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) को पंजाब के 2 लोगों ने भगवान के पास भेज दिया था । जिसके बाद कि राजीव गांधी (Rajeev Gandhi)  ने प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिए एसपीजी का गठन किया था और उसी के बाद 1988 में एसपीजी कानून भी लाया गया जिसके तहत केंद्र सरकार (Central Government) राज्य सरकार के पुलिस अधिकारियों को राज्य की बिना इजाजत के कार्यवाही कर सकते हैं।

Also Read:- सनातन धर्म की ले रहे शरण इस समुदाय के लोग….

पंजाब सरकार ने रिपोर्ट सौंपी केंद्र सरकार को

आपको बता दें कि पंजाब सरकार (Punjab Government) ने इस मामले में केंद्रीय गृह मंत्रालय (Home ministery) को रिपोर्ट सौंप दी है। जिसमें उसने बताया कि प्रधानमंत्री को घेरने के वाले लोग वहां अचानक आ गए थे। पंजाब सरकार ने ये भी कहा है कि ला परवाही की तहकीकात एक उच्च स्तरीय कमेटी से भी करा रही है। इसके अलावा अदालत ने पंजाब हरियाणा हाई कोर्ट (High Court) के Registrar General को प्रधानमंत्री के दौरे से जुड़े सभी Records को अपनी कस्टडी में लेने के लिए कहा है।