पासपोर्ट में कभी मुस्कुराती हुई फ़ोटो नहीं होती, ऐसा क्यों?

आज के समय में पासपोर्ट(Passport) बेहद जरूरी हो गया है। आप में से ज्यादातर लोगों के पास आज के समय पासपोर्ट तो होगा ही। अगर आप किसी दूसरे देश में यात्रा(Travel) कर रहे है या किसी और काम से किसी देश में जा रहे है तो आपके पास पासपोर्ट होना चाहिए। बिना पासपोर्ट के आप किसी और देश में कदम भी नहीं रह सकते है। मगर आपने कभी ध्यान से देखा हो तो आप नोटिस कर पाएंगे कि पासपोर्ट पर कभी भी मुस्कुराती हुई फ़ोटो नहीं होती है। क्या आपको पता है कि ऐसा क्यों है। अगर नहीं पता तो चलिए हम बताते है कि ऐसा क्यों है।

इसलिए पासपोर्ट पर नहीं होती स्माइल वाली फोटो

पासपोर्ट एक सरकारी दस्तावेज(Government Document) है। किसी भी दूसरे देश में पासपोर्ट आपकी नागरिकता(Citizenship) और राष्ट्रीयता(Nationality) को प्रमाणित करता है। पासपोर्ट के बिना अपने देश के बाहर यात्रा करना ग़ैर क़ानूनी होने के साथ-साथ दंडात्मक भी होता है। इसलिए आपकी सटीक पहचान के लिए पासपोर्ट के फोटो पर बिल्कुल नेचुरल फोटो लगाई जाती है।

पासपोर्ट की फ़ोटो खिंचवाते समय रखें इन बातों का ध्यान

इसलिए जब आप पासपोर्ट बनवाने के लिए जाएंगे तो फोटोग्राफर आपको ये ज़रूर हिदायत देता है कि आप अपने चेहरे को बिल्कुल सामान्य और नेचुरल रखें। बालों को ठीक से सवार लें। ऐसा दुनियाभर के लगभग हर देश में पासपोर्ट बनवाते समय हिदायत दी जाती है। इसके पीछे का मुख्य कारण यही है कि पासपोर्ट की फ़ोटो क्लियर हो।

Also Read:- गर्भनिरोधक गोली से जुड़ी ये बातें ये बातें हर महिला को पता होनी चाहिए, जानें किस बात का रखना होता है खास ध्यान

सुरक्षा के लिए पासपोर्ट में लगी होती है, चिप

देश की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कुछ देशों में अब एयरपोर्ट्स पर बायोमेट्रिक टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल होने लगा है। ऐसे देश पासपोर्ट में एक चिप लगते है, चिप से संबंधित व्यक्ति की पूरी जानकारी मिल जाती है, जिसका पासपोर्ट होता है। साथ ही जो फ़ोटो अटैच होती है। उसमें चेहरे के आकार की पूरी जानकारी होती है। जैसे दोनों आंखों के बीच की दूरी, नाक और ठोड़ी के बीच की दूरी और मुंह की चौड़ाई आदि।

9/11 की घटना के बाद होने लगा ऐसा

आपको बता दें कि पहले ऐसा नहीं होता था। स्माइल वाली और बालों से ढके हुए चेहरे वाली फ़ोटो पहले पासपोर्ट पर लगी होती है। लेकिन अमेरिका के World Trade Centre में 9/11 हमले के बाद ऐसा करने के लिए बिल्कुल मना कर दिया गया। इसके बाद से सभी देशों में ये चलन शुरू हो गया।