MakeInIndia: वजन कम, दोगुनी रेंज, सेना के लिए अब देश में ही बनेगी AK-203 राइफल !

आज आपको बताते है कि भारतीय सेना (Indian Army) को एक नया साजो- समान मिलने जा रहा है। देश में बनी AK-203 असॉल्ट राइफल (AK-203 Assault Rifle) जिसकी भारत (India) और फ्रांस (France) के बीच डील फाइनल हुई है। बताया जा रहा है कि 5 करोड़ की डील के तहत उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के अमेठी (Amethi) में अगले 10 सालों तक लगभग 6.01 लाख AK-203 सॉल्ट राइफल का निर्माण होगा। जिसका सारा सामान रूस से आएगा। जिसमें करीब 70 हजार से 1 लाख असाल्ट राइफल, पार्ट्स और टेक्नोलॉजी। सूत्रों के हवाले से पता चला है कि फैक्ट्री लगने के 32 महीने बाद से सेना को राइफल मिलना शुरू हो जाएंगे।

असाल्ट राइफल में ऐसा क्या है खास

भारत और रूस AK-203 Assault Rifle को मिलकर बनाएंगे । यह सबसे आधुनिक और घा तक राइफल है। जिसकी कंपनी अमेठी में बनाई जाएगी। उस कंपनी का नाम इंडो- रसिया राइफल प्राइवेट लिमिटेड होगा। यह राइफल भारतीय सेना में इस्तेमाल की जा रही इंसास राइफल (INSAS rifle)  की जगह लेगी। भारतीय सेना को लगभग 7.50 लाख AK- 203 असोल्ट राइफल की जरूरत है।

राइफल को लेकर भारत और रूस में क्या डील हुई है?

इस राइफल को लेकर भारत (India) और रूस (Rusia) के बीच जो डील हुई है। उसमें साफ साफ कहा गया है कि 70 हजार से 1 लाख राइफल रूस से मंगाई जाएंगी। उनके पार्ट्स और टेक्नोलॉजी भी ट्रांसफर होगी। बाकी 6.50 लाख राइफल अमेठी में बनाई जाएंगी। इसका फायदा यह होगा कि भविष्य में इस फैक्ट्री में यह राइफल अधिक मात्रा में बनाई जा सके। इस राइफल का पहला प्रोटोटाइप साल 2007 में AK-200 के नाम से आया था। इस राइफल को 100 सीरीज में रखा गया है। Ak-203 को साल 2013 में रेटनिक प्रोग्राम के तहत कुछ बदलाव करके नाम दिया गया। Ak-103, 3 साल 2019 में AK- 300 और AK- 100 एम राइफल जो इसी सीरीज की थी। इसके बाद साल 2019 में उसे अंतिम तौर पर AK- 203 नाम दे दिया गया।

Also Read:- विंग कमांडर अभिनंदन को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने वीर चक्र से किया सम्मानित….

जाने किस तरह AK- 203 इंसास राइफल से फायदेमंद है

इंसास राइफल की अपेक्षा में AK-203 असाल्ट राइफल छोटी और हल्की है। इंसास राइफल बिना मैगजीन के और बायोनेट के भी 4.15 किलोग्राम की है लेकिन Ak-203 का वजन 3.8 किलोग्राम है। इंसास की लंबाई 960 मिली मीटर है। जबकि Ak-203 की लंबाई 705 मिलीमीटर है। इसलिए जानकार कहते हैं वजन कम और लंबाई कम होने पर बंदू क को आसानी से लंबे समय तक लेकर चला जा सकता है। इससे थकान कम होगी। Ak-203 असाल्ट राइफल में 7.62×3 9 एमएम की बु लेट लगती है। जबकि इंसान में 5 .5 6×45 एमएम की बुले ट लगती है। इंसान की रेंज 400 मीटर है और AK-203 असाल्ट राइफल की रेंज 800 मीटर है। इसलिए यह राइफल इंसास से काफी बेहतर है।