अमेरिका की खुफिया रिपोर्ट में भारत-पाकिस्तान और चीन को लेकर बड़ा दावा, होगा हिंसक टकराव

अमेरिका की खुफिया रिपोर्ट में भारत-पाकिस्तान और चीन को लेकर बड़ा दावा, होगा हिंसक टकराव: गलावान घाटी में हिंसक झड़प के बाद से ही भारत चीन सीमा पर हालात नाजुक बने हुए है। इस बीच अमेरिका की एक खुफिया रिपोर्ट में अपने पड़ोसी देशों के साथ भारत के रिश्तों को लेकर भविष्यवाणी की गई है। खुफिया रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध की संभावना तो नहीं है, लेकिन दोनों देशों के बीच संकट और गहरा सकते है और नौबत टकराव तक पहुँच सकती है।

हालांकि गौर करने वाली बात है कि यह खुफिया रिपोर्ट ऐसे समय में सामने आई है, जब भारत और पाकिस्तान के बीच सामान्य रिश्तों की बहाली को लेकर कुछ शुरुआती कदम उठाए गए हैं। रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत पाकिस्तान के उकसावे पर सैन्य कार्रवाई करने के लिए पहले से अधिक तत्पर है।

न्यूज एजेंसी की ओर से इस खुफिया रिपोर्ट के कुछ अंशों को जारी किया गया हैं। इनमें कहा गया है, ”परमाणु शक्ति संपन्न दोनों पड़ोसी मुल्कों में तनाव बढ़ने से टकराव का जोखिम बढ़ सकता है। कश्मीर में हिंसक अशांति और आतंकवादी हमलों की वजह से इस तरह की नौबत आ सकती है।’

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि एलएसी से कुछ सैनिकों की वापसी के बावजूद भारत और चीन के बीच अभी तनाव बरकरार है। अमेरिकी खुफिया रिपोर्ट में इस टकराव के लिए चीन को दोषी ठहराते हुए कहा गया है, ”विवादित सीमा इलाकों में मई 2020 से चीन की मौजूदगी की वजह से दशकों में सबसे गंभीर टकराव हुआ है और इसकी वजह से 1975 के बाद पहली हिंसक झड़प हुई।”

रिपोर्ट में आगे भारत और चीन के रिश्तों के बारे में कहा गया है कि दोनों देशों के बीच हिंसक टकराव हो सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है, ”भारत और चीन के बीच अधिक निरंतर हिंसक टकराव संभावित हैं।

रिपोर्ट में भारत चीन वार्ता के संबंध में कहा गया है, “मध्य फरवरी के बाद दोनों देशों के बीच कई दौर की बातचीत हो चुकी है और दोनों पक्ष विवादित सीमा के कुछ इलाकों से सैनिक, हथियार और उपकरण पीछे ले जा रहे हैं। फिर भी दोनों देशों के बीच टकराव होने की संभावना को नकारा नहीं जा सकता है।