Fact Check-पंजाब में सबसे महंगी बिजली? दिल्ली के CM केजरीवाल के झूठे दावे की खुली पोल

दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल(Arvind Kejriwal) अपने बेसिर पैर के दावों के लिए जाने जाते है। वह समय-समय पर अपनी राजनीति चमकाने के लिए ऐसे दावे करते रहते है। पंजाब में विधानसभा चुनाव(Punjab Assembly Election) होने को है। आम आदमी पार्टी(AAP) की नजरें पंजाब के CM की कुर्सी पर है। 29 जून को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में अरविंद केजरीवाल ने सवाल पूछा कि पंजाब में देश की ‘सबसे महंगी’ बिजली क्यों है?

पंजाब में सबसे महंगी बिजली क्यों ?

अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में वादा किया कि अगर पंजाब में आम आदमी पार्टी (AAP) की सरकार आती है, तो सबको 300 यूनिट तक मुफ्त बिजली(Free Electercity) दी जाएगी। वीडियो में 2 मिनट 36 सेकंड वाले हिस्से से आप देख सकते है कि अरविंद केजरीवाल सवाल उठाते हुए कह रहे है कि, “पूरे देश में लगभग सबसे महंगी बिजली पंजाब में है, क्यों? पंजाब को जितनी बिजली चाहिए, उससे ज्यादा बिजली पंजाब में ही बनती है। उसके बावजूद देश में सबसे महंगी बिजली पंजाब में क्यों मिलती है?”

राघव चड्डा भी कर चुके ऐसा ही दावा

दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल से पहले AAP के पार्टी प्रवक्ता राघव चड्ढा और पार्टी के पंजाब अध्यक्ष और सांसद भगवंत मान भी कर चुके हैं।

 

महाराष्ट्र और राजस्थान में सबसे महंगी बिजली, न कि पंजाब में

केजरीवाल के दावे की पड़ताल करने के लिए O News की एंटी फेक न्यूज़ टीम ने मार्च 2019 में केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण (सेंट्रल इलेक्ट्रिसिटी अथॉरिटी) की ओर से जारी बिजली दरों पर रिपोर्ट देखी। भारत में बिजली सप्लाई से जुड़े तमाम तरह की जानकारी इस रिपोर्ट में है। हमारी नजर तो बिजली की सप्लाई की औसत दरों पर थी।

एवरेज रेट्स ऑफ इलेक्ट्रिसिटी सप्लाई ऐंड इलेक्ट्रिसिटी ड्यूटी’ (बिजली आपूर्ति और बिजली शुल्क की औसत दर) नाम के सब सेक्शन में हमें घरेलू उपभोक्ताओं के लिए औसत दर देखने को मिली।

बिजली के उपभोग के अनुसार रिपोर्ट को अलग-अलग श्रेणियों में बांटा गया है। जैसे 1 किलोवाट (100 यूनिट/महीना), 2 किलोवाट (200 यूनिट/महीना), और इसी तरह 10 किलोवाट (1000 यूनिट/महीना) तक।

Also Read:- हिंदुस्तान को अंधेरे में डूबा रही ‘मुफ्त की बिजली’ वाली पॉलिसी..

1kw में राजस्थान में सबसे महंगी बिजली

1kW के डोमेस्टिक पावर लोड (घरेलू बिजली भार) के लिए, राजस्थान में बिजली सप्लाई की सबसे ज्यादा औसत दर + शुल्क/टैक्स की 7.38 रुपये प्रति किलोवाट घंटा (kwh) है, जबकि पंजाब में 5.83 रुपये प्रति किलोवाट घंटा (kwh) है।

Punjab

2kw में महाराष्ट्र में सबसे महंगी बिजली

2 किलोवाट के घरेलू बिजली लोड के लिए, बिजली सप्लाई की औसत दर + शुल्क/टैक्स महाराष्ट्र-मुंबई (रिलायंस एनर्जी) के लिए सबसे ज्यादा 7.76 रुपये प्रति kwh है और ये पंजाब में 6.73 रुपये प्रति kwh है।

Punjab

फ़ैक्ट चेक का परिणाम

हमारी पड़ताल में ये साफ हो गया कि पंजाब में सबसे महंगी बिजली मिलने का दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल का दावा पूरी तरह से गलत है। देश में सबसे ज्यादा महंगी बिजली राजस्थान और महाराष्ट्र में है। राजस्थान में कांग्रेस की सरकार है। वहीं महाराष्ट्र में कांग्रेस सरकार में शामिल है।