करवा चौथ पर विश्वास नहीं करती सोनम कपूर की बहन, हिंदू आस्था का किया अपमान..

अनिल कपूर की छोटी बेटी रिया कपूर ने कहा है कि उन्हें करवा चौथ के गिफ्ट नहीं चाहिए, क्योंकि वो इस त्योहार में विश्वास नहीं रखती हैं। उन्होंने इंस्टाग्राम स्टोरी के जरिए कहा कि कोई करवा चौथ त्योहार से जुड़े ब्रांड इंडोर्समेंट के लिए उनसे कोई संपर्क न करे, क्योंकि वो उस चीज को आगे नहीं बढ़ाना चाहतीं जिसमें उन्हें यकीन नहीं। उन्होंने कहा कि अन्य जोड़े जो इसे मनाते हैं, उनका वो सम्मान करती हैं और वो इसे एन्जॉय कर सकते हैं।

रिया कपूर ने रविवार (17 अक्टूबर, 2021) को ‘हैप्पी संडे’ लिख कर अपने इंस्टाग्राम स्टोरी की शुरुआत की और उसमें आगे लिखा, “ये सिर्फ मेरे लिए नहीं है, या सिर्फ हमारे लिए। मैं ऐसा हरगिज नहीं कर सकती कि मैं किसी ऐसी चीज को आगे बढ़ाऊँ जिस पर मैं विश्वास नहीं करती या फिर जिसकी भावना से मैं सहमत नहीं हूँ। मेरा मानना है कि अगर हम अपना और एक-दूसरे का ख्याल रखेंगे तो हम ठीक रहेंगे।”

फिल्म अभिनेत्री सोनम कपूर की छोटी बहन रिया ने कहा कि उन्हें ये पोस्ट लिखने की ज़रूरत इसीलिए पड़ गई क्योंकि कुछ अपरिचित लोग चाहते हैं कि वो मुझे आक्रा मक रूप से ये एहसास दिलाएँ कि इस विचार के कारण मैं ‘मूर्ख’ हूँ। उन्होंने लिखा, “लोग कह रहे हैं कि ये मेरा पहला करवा चौथ है, इसीलिए मुझे करना चाहिए। नहीं। धन्यवाद। आइए, आगे बढ़ें? अगर आपने पढ़ा तो इसके लिए धन्यवाद।”

Also Read : करीना के साथ सैफ अली खान और तैमूर ने भगवन गणेश की मूर्ति के सामने जोड़े हाथ….

शादीशुदा हैं रिया कपूर

बता दें कि अगस्त 2021 में ही रिया कपूर और करण बलूनी की शादी हुई है। रिया का कहना है कि करण भी इस त्योहार में यकीन नहीं रखते। मुंबई स्थित अनिल कपूर के आवास पर शादी समारोह आयोजित किया गया था। इसमें केवल करीबी लोगों को ही निमंत्रित किया गया था। वो अपनी बहन के साथ Rheson नाम का एक फैशन ब्रांड भी चलाती हैं। उन्होंने ‘आयशा (2010)’, ‘खूबसूरत (2014)’ ‘वीरे दी वेडिंग (2015)’ जैसी फिल्मों का निर्माण भी किया है।

हिंदू आस्था के प्रति विश्वास ना दिखाना शायद इन्होंने अपनी बहन से सीखा होगा। क्योंकि कई बार हमने देखा है कि सोनम कपूर भी झूठे उदारवादी गैं ग में शामिल होती दिखायी देतीं हैं। इनकी छोड़ें तो फ़िल्म जगत के कई और ऐसे चेहरे हैं जो प्रत्यक्ष – अप्रत्यक्ष रूप से हिंदू आस्था का सम्मान नहीं करते दिखायी देते हैं। शायद उन लोगों के लिए यह एक ट्रेंड है।