Moter Vehicle law: जान लें ये नया नियम…

जब मोटर व्हीकल (Moter Vehicle) के नए कानून (Laws) नहीं आए थे। तो अक्सर देखा जाता था कि बाइक चलाने वाले बहुत कम ही लोग हेलमेट का उपयोग करते थे। लेकिन जब से नए सरकार ने चालान के रेट बढ़ाए हैं। तब से हर कोई घर से हेलमेट लेकर निकलता है। आज ऐसी ही खबर है। जिसमे पूर्व दुपहिया वाहन पर अपनी पत्नी और बच्चे के साथ नहीं सफर कर सकता। अगर ऐसा करेगा तो उसे चालान देना होगा। आइए विस्तार से बताते हैं पूरी खबर।

4 साल से ऊपर का बच्चा माता पिता के साथ सफर करेगा तो चालन कितना देना होगा

मोटर व्हीकल (Moter Vehicle) नियम के अनुसार अगर आपका बच्चा 4 साल से ऊपर है और आपके साथ सफर कर रहा है। तो उसको सवारी के तौर पर गिना जाएगा। अगर कोई पति पत्नी अपने बच्चे को बैठाकर अपने साथ सफर कराते हैं और उनका बच्चा 4साल से कम उम्र का है। तो उसे मोटर वाहन अधिनियम की धारा 194A के अनुसार 1000 रुपये का चालान देना पड़ सकता है। बड़े बच्चे अपने माता पिता के साथ बैठकर बाइक(Bike) पर सफर नहीं कर सकेंगे।

उम्र को लेकर पहले किस तरह का था मोटर व्हीकल नियम

दुपहिया वाहनों से बढ़ते हादसों को देखते हुए परिवहन मंत्रालय  (Ministry of Transport) ने मोटर वाहन अधिनियम में संशोधन कर उसमें कुछ बदलाव किए हैं। 4 साल से ऊपर का बच्चा सवारी के रूप में गिरा जाएगा। आपको बता दें ऐसा पहले नहीं था। पहले बाइक पर अपने माता पिता के साथ सफर करने की उम्र 12 साल होती थी। अभी तक चार साल से 12 साल तक के बच्चों को आधी सवारी माना जाता था और इसी के तहत सार्वजनिक यात्री वाहनों में उनका किराया भी आधा लगता था।

Also Read:- अजब गजब: विश्व के सबसे भव्य Hindu Temple वाले इस देश में नहीं है एक भी हिंदू, जानिए वजह…

ऑनलाइन दस्तावेज हो दिखाने पर पुलिस चालान नहीं लेगी

आपको बता दें कि अगर चेकिंग (Checking) के दौरान आपके पास ऑनलाइन कागज (Online Paper) है तो अब पुलिस आपका चालान नहीं कर सकेगी। पहले और आपके पास ऑनलाइन कागज होते हैं। लेकिन फिर भी पुलिस (Police) वाले ऑफलाइन कागज मांगते थे। अगर कागज नहीं होते थे। तो पुलिस आपका चालान कर देती थी। लेकिन अब परिवहन विभाग मोटर व्हीकल अधिनियम की धारा 188 के तहत ऑफलाइन कागज  (Offline Paper) ना दिखाने पर पुलिस चालान नहीं कर सकती है। अगर आप ऑनलाइन डिजीलॉकर (Digilocker) के माध्यम से गए दिखाते हैं तो आप चालान से बच सकते हैं।