असदुद्दीन ओवैसी को लेकर आ रही ये खबर, जनिये पूरा मामला…

बीते दिनों उत्तर प्रदेश के हापुर में AIMIM पार्टी के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) की गाड़ी पर दो लोगों ने साजो सामान का इस्तेमाल किया था। जिसे लेकर सोशल मीडिया (Social Media) के साथ ही साथ राजनीति जगत में भी खूब चर्चाएं हो रही है। एक तरफ असदुद्दीन ओवैसी इस मामले को लेकर अलग-अलग पार्टी को घेरने की कोशिश कर रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ पुलिस (Police) उस व्यक्ति से भी पूछताछ कर रही है। जिन्होंने असदुद्दीन ओवैसी के साथ असंसदीय काम किया था। पुलिस के द्वारा पूछताछ में क्या जानकारी मिली है आइए आपको बताते हैं।

असदुद्दीन ओवैसी ने दिया बयान

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के हापुड़ (Hapud) में हुए मामले को लेकर असदुद्दीन ओवैसी ने बयान देते हुए कहा है कि उनके साथ सोची समझी साजि श के तहत ऐसा हो रहा है। लेकिन पुलिस द्वारा धरे गए दो व्यक्ति ने जो जानकारी दी है। वह बिल्कुल ही अलग है। जिस तरह से दोनों व्यक्ति असदुद्दीन ओवैसी और उसके भाई अकबरुद्दीन ओवैसी (Akbaruddin Owaisi) का नाम ले रहे हैं। इससे यह साफ पता चलता है कि आखिर दोनों व्यक्ति असदुद्दीन ओवैसी के साथ ऐसा क्यों करना चाहते थे।

धरे गए दोनों व्यक्ति है दोस्त

मीडिया द्वारा मिल रही खबरों (News) के अनुसार असदुद्दीन ओवैसी की कार (Car) पर साजों सामान का इस्तेमाल करने वाले दोनों व्यक्ति दोस्त बताए जा रहे हैं। मामले के तुरंत बाद पुलिस ने दोनों व्यक्ति को धर लिया था। दोनों ही व्यक्ति लोग ग्रेजुएट (Graduate) हैं। दोनों व्यक्ति एक बहुत ही अच्छे दोस्त हैं और एक ही कॉलेज (College) में पढ़ाई कर चुके हैं। यह भी बताया जा रहा है कि असदुद्दीन ओवैसी को दोनों व्यक्ति सोशल मीडिया पर फॉलो करते थे और उनकी सभी वीडियो को देखा करते थे।

Also Read:- महेंद्र सिंह धोनी का महादेव वाला अवतार सोशल मीडिया पर खूब देखा जा रहे है..

असदुद्दीन ओवैसी के भाई के बयान के कारण किया ऐसा

पुलिस द्वारा पूछताछ करते समय यह जानकारी मिली है कि सचिन (Sachin) नाम का व्यक्ति बादलपुर (Badalpur) का रहने वाला है तो वहीं दूसरी तरफ शुभम (Shubham) नाम का व्यक्ति सहारनपुर (Saharanpur) का रहने वाला है। आपको बताते चलें कि एक समय में असदुद्दीन ओवैसी के भाई अकबरुद्दीन ओवैसी ने बयान देते हुए कहा था कि 15 मिनट के लिए पुलिस हटा लो हम दिखा देंगे कि हम लोग कौन हैं, और क्या कर सकते हैं। अकबरुद्दीन ओवैसी के द्वारा दिए गए इस बयान के कारण ही दोनों व्यक्ति ओवैसी से खुश नहीं थे। इसलिए उन्होंने ऐसा किया था।