19.4 C
New York
Thursday, June 13, 2024

Buy now

Topper Interview: पति हैं IPS पत्नी बनीं IAS, मात्र 6 घंटे पढाई कर अंकिता जैन बनीं टॉपर….

Topper Interview: हर साल लाखों लोग UPSC की परीक्षा देते हैं। लेकिन उनमें से चयन कुछ का ही होता है। साल 2020 में लगभग 20 लाख लोगों ने UPSC की परीक्षा में हिस्सा लिया था। लेकिन इस परीक्षा को पास करने वाले मात्र 763 उम्मीदवार ही है। सफल होने वाले छात्रों का पढ़ाई करने का एक अलग ही तरीका होता है। यूपीएससी परीक्षा में चयनित होने के लिए बहुत ही ज्यादा मेहनत करनी होती है। सिविल सर्विस परीक्षा में तीसरे स्थान पर आने वाली अंकिता जैन त्यागी (Ankita Jain Tyagi) की कहानी हमें जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा देती हैं। आइए आपको पूरी खबर विस्तार से बताते हैं।

लक्ष्य को पाना है बेहद आसान

यूपीएससी परीक्षा में तीसरे स्थान पर आने वाली अंकिता जैन त्यागी का कहना है कि कोई भी काम छोटा नहीं होता। अगर आप जीवन में कुछ करना चाहते हो तो आपको अपने लक्ष्य को पाने के लिए इस पर फोकस करना बहुत ही जरूरी होता है। अंकिता जैन मीडिया से बातचीत के दौरान बताती है कि वह प्रतिदिन केवल 6 घंटे ही पढ़ाई करती थी। नियम बनाकर पढ़ाई करने से बहुत ज्यादा लाभ होता है। अंकिता जैन आगे बताती है कि हमारे पास पढ़ने के लिए बहुत कुछ होता है लेकिन हमें सिर्फ वही पढ़ना चाहिए जो हमारे काम का है।

2019 में चुनी गई थी डिप्टी अकाउंटेंट जनरल मुंबई

अंकिता जैन त्यागी साल 2019 में एलायड आईएएस पद के लिए चुन ली गई थी। अंकिता त्यागी डिप्टी अकाउंटेंट जनरल के पद पर मुंबई में काम कर रही थी। लेकिन बावजूद इसके भी अंकिता त्यागी अपने काम से खुश नहीं थी। अंकिता त्यागी ने अपनी नौकरी को बरकरार रखते हुए आईएएस की तैयारी करने का निर्णय लिया था। अपनी नौकरी के साथ ही साथ अंकित त्यागी प्रतिदिन समय निकालकर लगभग 6 घंटे पढ़ाई करती थी। मात्र 2 वर्ष की मेहनत के बाद साल 2021 में अंकिता त्यागी को सफलता मिल गई।

Also Read:- बस इतने साल किराये पर रहिये फिर बन सकते है मकान मालिक !

माता पिता और पति को दिया सफलता का श्रेय

मीडिया से बातचीत करने के दौरान अंकिता त्यागी ने अपनी सफलता के बारे में कहा कि वह अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता और अपने पति को देना चाहती है। अंकिता के पति आईपीएस है। यूपीएससी की तैयारी करने के लिए अंकिता छोटे-छोटे नोट्स बनाया करती थी। नौकरी के साथ ही साथ जब भी उन्हें समय मिलता है। वह उस नोट्स से रिवीजन करती थी। अंकिता बताती है कि हमें सबसे पहले अपना बेस सही करना होता है। इसके लिए हम एनसीईआरटी की किताबें पढ़ सकते हैं

Related Articles

Stay Connected

51,400FansLike
1,391FollowersFollow
23,100SubscribersSubscribe

Latest Articles