PM मोदी की नक्सलियों को दो टूक,जवानों की शहादत बेकार नही जाएगी,अंजाम भुगतने केईए तैयार रहो..

बस्तर: बीजापुर जिले के तरेम क्षेत्र के जोनागुडा में सुरक्षा बलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ में पांच सैनिक मारे गए। वहीं, 37 सैनिक घायल हो गए। तीन नक्सलियों के मारे जाने की भी सूचना है, एक महिला नक्सली का शव भी बरामद कर लिया गया है। आज शहीदों को श्रद्धांजलि दी जाएगी।

दरअसल, एसटीएफ, डीआरजी, सीआरपीएफ और कोबरा बटालियन के लगभग 1500 से 2000 जवान नक्सल विरोधी अभियानों पर गए थे। मुठभेड़ सुबह करीब 9 बजे शुरू हुई। करीब दो किलोमीटर के दायरे में करीब 5 घंटे तक फायरिंग जारी रही। आईजी के मुताबिक, नक्सली दो ट्रैक्टर में दो घायल नक्सलियों के साथ वहां से भाग गए। सुरक्षा बलों की नक्सली बटालियन कमांडर हिडमा की टीम के साथ भीषण मुठभेड़ हुई। दोनों ओर से भीषण गोलीबारी हुई। जिसमें 5 जवान शहीद हो गए थे।

इस सनसनीखेज वारदात की सूचना मिलते ही डीजीपी डीएम अवस्थी ने रायपुर में पुलिस मुख्यालय में एक उच्च स्तरीय बैठक ली। वहीं, 9 एंबुलेंस और दो एमआई -17 हेलीकॉप्टरों को घटनास्थल पर भेजा गया। 21 घायल जवानों को बीजापुर के जिला अस्पताल में लाया गया है, जबकि 7 अन्य घायल जवानों को एयर लिफ्ट करके रायपुर लाया गया है। गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू रायपुर के निजी अस्पताल में भर्ती घायल सैनिकों से मिलने पहुंचे। उन्होंने कहा कि बल का दबाव बढ़ने से नक्सली भारी पड़ गए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी नक्सली हमले पर दुख व्यक्त किया। उन्होंने यह भी कहा कि शहीदों के परिवारों के साथ सहानुभूति है और सुरक्षा बलों की शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी। पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए राज्य सरकार पर नक्सलियों के खिलाफ कोई ठोस रणनीति नहीं बनाने का आरोप लगाया। सिर्फ डेढ़ सप्ताह के भीतर, नक्सलियों ने एक और बड़ी घटना को अंजाम दिया है। सैनिकों के रक्त से मारे गए लाल आतंकवादियों का सफाया करने के लिए ठोस कदम उठाने की आवश्यकता है।