पूर्व अमेरिकी राजदूत का दवा, 2030 तक भारत विश्व का सर्वश्रेष्ठ देश बन सकता है

आज के समय में भारत(India) बहुत तेज़ी से विकास कर रहा है। भारत की विकास की भूख देखकर लगता है कि बहुत जल्द भारत विकासशील देश से एक विकसित देश बन जायेगा। आज हर क्षेत्र में भारत एक मजबूत देश बन कर उभरा है। सारी दुनिया इस समय भारत की ओर देख रही है। भारत के विकास की रफ्तार देखकर बहुत सारे देशों को लगने लगा है कि 2030 तक भारत विश्व का सर्वश्रेष्ठ देश बन जायेगा। इन्हीं में से एक देश अमेरिका है। फिलहाल तो अमेरिका विश्व का सर्वश्रेष्ठ देश है। हर क्षेत्र में अमेरिका शीर्ष पर है। भारत की विकास की रफ्तार को देखते हुए अमेरिका को लगने लगा है कि बहुत जल्द भारत शीर्ष पर आ जायेगा।

2030 तक भारत विश्व का सर्वश्रेष्ठ देश बन सकता है – पूर्व अमेरिकी राजदूत

रिचर्ड वर्मा अमेरिका के एक पूर्व राजदूत रह चुके है। उन्होंने कहा की दुनिया के दो सबसे बड़े लोकतंत्र आपस में मिलकर बहुत कुछ कर सकते है। अपने एक बयान में रिचर्ड वर्मा ने कहा, “मैं वर्ष 2030 को देखता हूं और मुझे एक ऐसा भारत दिखाई देता है जो लगभग हर वर्ग में दुनिया का नेतृत्व कर सकता है।” रिचर्ड वर्मा जिंदल यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ बैंकिंग एंड फाइनेंस में छात्रों को संबोधित कर रहे थे।

भारत में एशिया का सबसे अधिक युवा कार्यबल

रिचर्ड वर्मा ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि भारत में एशिया का सबसे युवा कार्यबल है। भारत को 2050 तक इसका लाभ मिलता रहेगा। उन्होंने ‘ड्राइविंग साझा समृद्धि – अमेरिका-भारत संबंधों के लिए एक 21 वीं सदी की प्राथमिकता’ पर अपनी टिप्पणी में यह बात कही। आगे उन्होंने कहा कि भारत इस समय महामारी से जूझ रहा है फिर भी वह नए अविष्कार कर रहा है। तेजी से विकास कर रहा है।

Also Read:- लालकिले में परिदा भी नहीं मार सकेगा पर, लगेगा ये खास सिस्टम…

पूर्व अमेरिकी राजदूत ने भारत के सर्वश्रेष्ठ होने के गिनाए कारण

रिचर्ड वर्मा ने भारत के विकास को रेखांकित करते हुए कहा कि 2030 तक भारत विश्व का सर्वश्रेष्ठ देश बन जायेगा। इसके लिए उन्होंने कारण भी गिनाए। उन्होंने कहा भारत सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश है, सबसे अधिक कॉलेज स्नातक, सबसे बड़ा मध्यम वर्ग, सबसे अधिक सेल फोन और इंटरनेट उपयोगकर्ता, तीसरी सबसे बड़ी सैन्य ताकत और तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के साथ, दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में 25 साल से कम उम्र के 60 करोड़ लोग हैं।”