कृषि कानूनों की वापसी के बाद मौलाना अरशद मदनी ने CAA को लेकर कह दी ये बात

बीते कल यानी 19 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने राष्ट्र (Nation) को संबोधित करते हुए एक जानकारी(Information)दी है कि महीने (Month) के आखिरी में होने वाले संसद सत्र ( Parliament Session)  में तीनों ने कृषि कानूनों (Farmer Laws) को वापस ले लिया जाएगा। पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा कृषि कानूनों को लेकर निर्णय लेने के बाद ही कांग्रेस (Congress) तथा अन्य पार्टी के नेता ट्वीट करते नजर आ रहे हैं। तो वहीं दूसरी तरफ कुछ लोग CAA को लेकर भी वेट कर रहे हैं। तीनों कृषि कानूनों की वापसी पर जमीयत उलमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौ लाना सैयद अरशद मदनी ने क्या कुछ कहा है? आइए आपको पूरी खब (News) विस्तार से बताते हैं।

जमीयत उलमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौलाना सैयद अरशद मदनी ने किया स्वागत किया

जमीयत उलमा-ए-हिंद के अध्यक्ष (Paresident) मौ लाना सैयद अरशद मदनी ने तीनों कृषि कानूनों (Farmer Laws)की वापसी पर एक बहुत ही अहम बयान दिया है। बयान देने के साथ ही साथ उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के निर्णय का स्वागत नहीं किया है। अरशद मदनी द्वारा बयान देने के बाद ही कई लोग बातें करते नजर आ रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ कुछ लोग उन्हें लेकर सवाल ही कर रहे हैं। दरअसल उन्होंने सीएए (CAA) को लेकर एक बहुत ही अहम बयान दिया है।

लोकतंत्र में लोगों की शक्ति सर्वोपरि है –मौलाना सैयद अरशद मदनी

जमीयत उलमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौ लाना सैयद अरशद मदनी ने कहा है कि सीएए को लेकर कुछ लोग शाहीन बाग में बैठे थे उन्हें देखकर ही किसान (Farmer) दिल्ली (Delhi) की सीमाओं तक पहुंचे थे और किसानों को जीत भी मिली है। आगे उन्होंने कहा कि लोकतंत्र (Democracy) में लोगों की शक्ति सर्वोपरि है इसका सबसे अहम उदाहरण कल देखने को मिला है। उन्होंने कहा कि जो लोग सोचते हैं स्वतंत्र भारत (freedom India) में सरकार और संसद बहुत ही ज्यादा मायने रखता है लोगों को किसानों से सीख लेने की आवश्यकता है।

Also Read:-Kangana Ranaut ने Indira Gandhi को लेकर कुछ ऐसा लिख दिया, जिसे पढ़कर उड़ जायेंगे आपके होश !

मौ लाना सैयद अरशद मदनी ने कहा CAA की भी हो वापसी

मौ लाना सैयद अरशद मदनी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra modi) ने तीनों कृषि कानून (Farmer Laws)को वापस लेकर बहुत अच्छा काम किया है। अब जल्दी ही पीएम नरेंद्र मोदी को सीएए (CAA) भी वापस ले लेना चाहिए। किसानों को लेकर बात करते हुए उन्होंने कहा कि इस जीत के लिए हर किसान भाइयों ने बहुत अच्छा काम किया है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से पीएम नरेंद्र मोदी ने तीनों कृषि कानून को वापस ले लिया है उसी तरह अब सीएए को भी वापस ले लेना चाहिए। क्योंकि CAA से भी कई लोग खुश नहीं है।