Rani Chatterjee ने मंदिर में एंट्री के बाद बदला अपना धर्म! ये है उनका असली नाम…

Rani Chatterjee ने 3 नवंबर को अपना बर्थडे सेलिब्रेट किया. रानी अपनी जिंदगी के 35वें बसंत में प्रवेश कर रही हैं. रानी ने अपने एक्टिंग करियर की शुरूआत महज 14 साल की उम्र में की थी. उससे पहले वे मुस्लिम परिवार की बच्ची सबिया शेख के नाम से जानी जाती थीं. सबिया शेख के रानी चटर्जी बनने की कहानी भी दिलचस्प है.

Rani Chatterjee का ये है असली नाम

एक इंटरव्यू में रानी चटर्जी ने कहा था कि, ‘मैं मुंबइया लड़की हूं और मेरा जन्म मुस्लिम परिवार में हुआ था. मेरा असली नाम सबिया शेख है. लेकिन जब मैं मनोज तिवारी के साथ भोजपुरी फिल्म ‘ससुरा बड़ा पईसावाला’ के लिए सेलेक्ट हुई और शूटिंग के लिए मुझे गोरखपुर के मंदिर जाना था, तो उस वक्त ऑन स्पॉट आनन-फानन में मेरा नाम सबिया से रानी रख दिया गया.’

Rani Chatterjee

रानी बताती हैं,  ‘मुहूर्त शॉट का पहला सीन था, हमें गोरखपुर के गोरखधाम मंदिर में शूट करना था. हुआ यूं कि कास्ट और क्रू के लोग कहने लगे कि मैं मुस्लिम हूं और मंदिर में शूट करने वाली हूं, तो कहीं मंदिर के लोगों को आपत्ति न हो जाए.

रानी ने शूटिंग के दौरान छुपाई पहचान

यही वजह है कि मेरे प्रोड्यूसर ने आकर मुझसे कहा कि कोई भी तुमसे पूछे कि तुम्हारा नाम क्या है, तो रानी बोल देना क्योंकि फिल्म में मेरे किरदार का नाम भी रानी ही था.’ खैर शूटिंग के दौरान ही किसी ने प्रोड्यूसर से पूछा कि ये लड़की कौन है और कहां से है, तो प्रोड्यूसर ने झट से रानी चटर्जी संबोधित करते हुए कहा कि ये मुंबई की रहने वाली है. बस फिर क्या था, पूरी शूटिंग के दौरान मुझे अपनी पहचान छुपा कर रखनी पड़ी. यह संयोग की बात है कि आज सोशल मीडिया पर उसी मंदिर के अधीश्वर और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा अलग-अलग जगहों के नाम बदले जाने को लेकर मीम्स बनते हैं.

Rani Chatterjee

Read More: होली पर खेसारी लाल और स्मृति सिन्हा हो गए कुछ ज्यादा ही रोमांटिक!

उन्होंने आगे कहा कि, नाम बदले जाने पर मैंने आपत्ति नहीं की थी. इसका कारण यह भी था कि मुझे लगा कौन फिल्म देखेगा और किसे पता चलेगा. हालांकि, हुआ इसके उलट, फिल्म सुपरहिट हो गई और फिर मीडिया के बीच मैं रानी चटर्जी बन गई. हालांकि, दूसरी फिल्म के बाद ही मैंने मीडिया के बीच अपना असली नाम जाहिर कर दिया था. चूंकि,रानी नाम मेरे लिए लकी रहा, तो मैं आज भी रानी कहलवाना ही पसंद करती हूं.