भारत एशिया का सुपर पावर बनने के राह पर,knight Frank की रिपोर्ट तो दे रहा यहि इशारा..

अपनी फिल्मों के अंदर देखा होगा कि जापान और अमेरिका जैसे देश के अंदर हर कोई अमीर है अरबपति हैं ऐसा कुछ! लेकिन अगर हम आपको यह कहे कि भारत के अंदर आने वाले 5 साल के अंदर 63% अरबपति की संख्या बढ़ने वाली है तो क्या आप मान लेंगे? लेकिन यही सच है! दरअसल भारत के अंदर अरबपति की संख्या आने वाले 5 साल के दौरान 63% बढ़कर 11,168 पर पहुंचने का अनुमान जताया जा रहा है! जो कि दुनिया की दूसरी सबसे तेज बढ़ोतरी होगी!

दरअसल प्रॉपर्टी एडवाइजर संस्था नाइट फ्रैंक (Knight Frank) की हालिया रिपोर्ट के अंदर यह जानकारी मिली है! सुपर रिच सीरीज में, तीन करोड़ डॉलर या उससे अधिक की संपत्ति वाले लोगों की गिनती की जाती है! नाइट फ्रैंक की वेल्थ रिपोर्ट (2021) के अनुसार, 2020-25 के बीच दुनिया भर में UHNWI की संख्या 27 प्रतिशत बढ़कर 6,63,483 हो जाने की उम्मीद है! वैश्विक रूप से, इनकी संख्या अब 5,21,653 है, जिनमें से 6,884 रईस भारत में हैं!

Knight Frank ने अपने ताजा बयान के अंदर यह भी कहा है कि साल 2025 तक भारत के अंदर रईस लोगों की संख्या में 63% का इजाफा होगा! यही नहीं बल्कि इस रिपोर्ट में यह भी जिक्र गया किया गया है कि भारत के अंदर अरबपतियों की संख्या 2025 तक 43% से बढ़कर 162 पर पहुंचने का अनुमान है! दरअसल 2020 में यह संख्या 113 थी!

रिपोर्ट के अंदर अनुमान यह लगाया गया है कि एशिया में UHNWI की संख्या में सबसे अधिक 39% का इजाफा होगा वही इस अवधि के दौरान सबसे ज्यादा अमीर लोगों की संख्या में बढ़ोतरी इंडोनेशिया में 67 प्रतिशत और उसके बाद भारत ने 63% होगी!

भारत बन सकता है एशिया का सुपर पावर-

नाइट फ्रैंक इंडिया के चेयरमैन एवं प्रबंधक निदेशक शिशिर बैजल का कहना है कि महामारी के बाद आर्थिक गतिविधियां नए स्तर पर जा रही है और ऐसे में भारत अगले कुछ सालों के दौरान $5000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था वाले CLUB में अपनी जगह बना सकता है! ऐसे भी इमारत अपनी आर्थिक तरक्की के दम पर एशिया का सबसे बड़ा सुपर पावर बन सकता है!

चेन्नई ने आगे कहा कि आर्थिक मदद से संपत्ति निर्माण के आकर्षण में के भी दिए जाएंगे जिसकी सहायता से भारत में अमीरों के क्लब में नए लोगों का प्रवेश होगा! रिपोर्ट के अंदर यह भी कहा गया है कि भारत केंद्र मुंबई में UHNWI की संख्या सबसे अधिक 920, जिसके बाद 375 के साथ दिल्ली दूसरे स्थान पर रहेगा और फिर बेंगलुरु तीसरे स्थान पर 238 संख्या के साथ रहेगा!