इनफ़ोसिस में करता था झाड़ू पोछा! बन गया कंपनी का मालिक!

Success Story Dada saheb: आधुनिक युग में सफलता की कहानियाँ उस इंसानी जागरूकता का प्रतीक हैं,

जो अपने सपनों को पूरा करने के लिए किसी भी (Success Story Dada saheb) माध्यम का इस्तेमाल करता है।

दादा साहेब भगत की यह कहानी भी उनमें से एक है,

जिन्होंने अपने जीवन में संघर्ष के मोड़ पर खड़े होकर सफलता का सफर तय किया।

Success Story Dada saheb कहाँ के रहने वाले हैं

दादा साहेब भगत का जन्म 1994 में महाराष्ट्र के बीड में हुआ था।

उनके परिवार में आर्थिक संकटों का सामना करना पड़ा,

और इस संघर्ष में उन्होंने सीमित संसाधनों के बावजूद अपने सपनों को पूरा करने का संकल्प किया।

पढ़ाई के बाद, उन्होंने आईटीआई कोर्स पूरा किया और मेहनत के बल पर इंफोसिस में नौकरी प्राप्त की।

यहाँ, उनका काम रूम सर्विस और साफ-सफाई का था, जो कि मात्र 80 रुपये रोजाना कमाई देता था।

लेकिन उनका सपना और उनकी मेहनत बहुत अधिक थीं।

उन्होंने सोचा कि अगर वह अपनी क्षमताओं का सही उपयोग करें,

तो उन्हें अपने सपनों को पूरा करने का मौका मिल सकता है।

इसके बाद, उन्होंने रात्रि में कंप्यूटर और तकनीक के बारे में सीखना शुरू किया,

और अपनी क्षमताओं को विकसित किया।

Success Story Dada saheb दुर्घटना के हुए शिकार 

2009 में, एक दिन उन्हें एक्सीडेंट का सामना करना पड़ा,

जिसके बाद उन्हें शहर छोड़कर अपने गांव जाना पड़ा।

यहाँ, वह लैपटॉप किराए पर लेकर ग्राफिक डिज़ाइनिंग के काम में लगे,

जिससे उन्हें सैलरी से भी अधिक आमदनी होने लगी।

Success Story Dada saheb कंपनी का नाम 

2016 में, उन्होंने खुद की कंपनी “Ninthmotion” की स्थापना की,

जो ग्राफिक डिज़ाइनिंग सॉफ्टवेयर विकसित करती है।

उनके प्रयासों और उत्साह के परिणामस्वरूप, उन्हें बड़ी कंपनियों के साथ भागीदारी का मौका मिला,

और आज वह दो कंपनियों के मालिक हैं।

उनकी कंपनी “Ninthmotion” ने अपने उत्कृष्ट ग्राफिक डिज़ाइन और नवाचारी सॉफ्टवेयर के लिए विख्यात है,

और वे अब एक सफल और समृद्ध उद्यमी के रूप में सम्मानित हो चुके हैं।

Success Story Dada saheb अंत में 

इस उत्कृष्ट कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि,

सपनों को पूरा करने के लिए सिर्फ प्रेरणा और मेहनत की ही जरूरत होती है।

चाहे रास्ते में कितनी भी मुश्किलें क्यों न हों,

अगर हम अपने लक्ष्य की ओर सच्ची निष्ठा के साथ अग्रसर होते हैं,

तो हम अवश्य ही सफल होंगे। दादा साहेब भगत की यह कहानी इस बात का प्रमाण है।

ये भी देखें:- 

MP News: एक हिंदू लड़की से साथ होटल में पकड़े गए दो मुस्लिम लड़के,बजरंग दल ने की जमकर पिटाई,किया पुलिस के हवाले

Urfi Javed के कपड़ो पर कमेंट करना चेतन भगत को पड़ा भारी, व्हाट्सएप चैट्स हुई लीक..!

देश की पहली लंबी दूरी की लग्जरी ट्रेन: चीते से भी तेज, जानिए ट्रैक पर उतरने का समय!

धूप से चलेगा सोलर AC, बिजली बिल की टेंशन खत्म, जानिए कीमत!

1 अप्रैल 2024 से बदले ये 10 नियम, जानिए आप पर होगा कैसे असर?

Success Story Dada saheb: An Incredible Success Story
Success Story Dada saheb: An Incredible Success Story

 

ये भी देखें:-

पांडव नगर के गुस्साए हिन्दुओं ने मुसलमानों के आर्थिक और सामाजिक बहिष्कार की कर दी मांग!