28 C
New York
Thursday, June 13, 2024

Buy now

PM Modi लगातार मिटाते जा रहे गुलामी के निशान को, जानें उनके 6 बड़े फैसले…

भारतीय जनता पार्टी(BJP) की सरकार पिछले 8 सालों में लगातार गुलामी की उन प्रतीकों को हटा रही है, जो देश को ब्रिटिश काल की गुलामी की याद दिलाते हैं. इसी कड़ी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने भारतीय नौसेना(Indian Navy) का नया ध्वज या निशान जारी किया है. नए ध्वज में अष्टकोणीय(Octagonal) सीमाएं शिवाजी महाराज राजमुद्रा या छत्रपति शिवाजी(Chhatrapati Shivaji Maharaj) महाराज की मुहर से प्रेरणा लेते हुए बनाई गई है. शिवाजी की दूरदृष्टि का ही परिणाम था कि उन्होंने एक विश्वसनीय नौसेना बेड़े का निर्माण किया था, और अब उसने ब्रिटिश काल के प्रतीक सेंट जार्ज क्रॉस(Saint George’s Cross) की जगह ले ली है.

PM Modi commissions India's first indigenous aircraft carrier INS Vikrant | India News - Times of India

कैसा दिखता है नया निशान

ध्वज या निशान में भारत के गौरवशाली इतिहास का की शौर्य गाथा है और उपनिवेशवाद(Colonialism) से आजादी का प्रतीक है. नए निशान में ऊपरी बाएं कैंटन में राष्ट्रीय ध्वज, और फ्लाई साइड के केंद्र में एक नेवी ब्लू – गोल्ड अष्टकोण है.स्वर्ण अष्टकोणीय सीमाओं के साथ है, जो एक एंकर के ऊपर टिकी हुआ है, और एक ढाल पर लगा हुआ है. ढाल के नीचे, अष्टकोण के अंदर, एक सुनहरे बॉर्डर वाले रिबन में, गहरे नीले रंग की पृष्ठभूमि पर, स्वर्ण देवनागरी लिपि में भारतीय नौसेना का आदर्श वाक्य ‘सम नो वरुणः’ अंकित किया गया है.

INS Vikrant: Indian Navy Got A New Ensign, The Design Is Taken From The Seal Of Chhatrapati Shivaji Maharaj - भारतीय नौसेना को मिला नया एन्साइन, डिज़ाइन लिया गया है छत्रपति शिवाजी

पीएम मोदी ने कही ये बड़ी बात

इसके पहले भी पीएम मोदी ने आजादी की वर्षगांठ पर लाल किले से पंच प्रणों में गुलामी की निशानियों से मुक्ति की बात भी कही थी,और अगर उनके पिछले 8 साल के शासन को देखा जाय तो उन्होंने ऐसी विरासतों को हटाने के कई ऐसे फैसले किए हैं, जो गुलामी के दौर के विरासत में आज भी चलाए जा रहे थे.

भारतीय नौसेना को मिला INS विक्रांत, PM मोदी ने कहा- आत्मनिर्भर भारत का प्रतिबिंब है INS विक्रांत - EwokeTV

Related Articles

Stay Connected

51,400FansLike
1,391FollowersFollow
23,100SubscribersSubscribe

Latest Articles