25.9 C
New York
Friday, June 21, 2024

Buy now

कभी रिहर्सल नहीं करते थे हरफनमौला महमूद, बिग बी को कहते थे….

महमूद अली(Mehmood Ali) हिंदी सिनेमा के दिग्गज कलाकारों(Actors) में से एक थे। उनकी बराबरी न तब कोई कर सका और न अभी तक कोई बॉलीवुड सितारा(Bollywood Stars) कर पाया है। वह शायद उन चुनिंदा कलाकारों में से थे, जो हरफनमौला हुनर के मालिक थे। जो हँस कर, नाच कर, गा कर, दर्शकों का मनोरंजन करते थे। बात अगर उनके अभिनय की जाये तो वह जब एक्टिंग करते थे। तो बेजान किरदार में भी जान फूंक देते थे। महमूद साहब ने चार दशक के फिल्मी करियर में तकरीबन 300 फिल्मों में काम किया था। लोग सिनेमाघरों में बस महमूद साहब को देखने ही जाया करते थे। फ़िल्म डायरेक्टर को भी पता था कि फ़िल्म को हिट कराना है तो उनका फ़िल्म में होना जरूरी है।

कभी रिहर्सल नहीं किया, जो किया सीधे लाइव

महमूद साहब के बारे में कहा जाता है कि वह फिल्मों के लिए कभी रिहर्सल नहीं करते थे। वह जो करते थे सीधे लाइव करते थे। महमूद जी फिल्मी बैकग्राउंड से थे। उनके माता-पिता दोनों 40-50 के दशक के दिग्गज कलाकार थे। महमूद 8 भाई-बहन थे। उनके पिता को शराब की इतनी बुरी लत थी कि उनके परिवार की माली हालत खराब होती चली गई। तब महमूद ने बाल कलाकार के रूप में फिल्मों में काम करना शुरू किया। मगर बड़ा परिवार होने के कारण खर्च चलाना मुश्किल हो गया तब उन्होंने अंडे बेचना शुरू कर दिया।

मीनाकुमारी की छोटी बहन से हुआ प्यार

महमूद साहब ने मशहूर एक्ट्रेस मीनाकुमारी(Meena Kumari) को बैडमिंटन खेलना सिखाया था। इस दौरान महमूद को मीना कुमारी की छोटी बहन मधु से प्यार हो गया। धीरे-धीरे उनका प्यार परवान चढ़ा और दोनो ने शादी कर ली। शादी के बाद महमूद फिल्मों में रोल पाने के लिए दिल और दिमाग से सं घर्ष करने लगे।

महमूद ने जब किशोर कुमार को कहा था- एक दिन तुम्हें अपनी फिल्म में रखूंगा

महमूद साहब को पहला रोल फ़िल्म किस्मत(Kismat) में मिला था। इसके बाद उन्होंने कई छोटे-बड़े रोल किये। इसी दौरान भारतीय सिंगर लीजेंड किशोर कुमार(Kishore Kumar) भी कई फिल्मों में काम कर रहे थे। जब एक फ़िल्म स्टूडियो में दोनों की आपस में मुलाकात हुई तो महमूद साहब ने किशोर कुमार से कहा, “यार मुझे अपनी फिल्म में काम दिलवा दे।”

Also Read:- हर समय खुश रहने वाली अर्चना पूरन सिंह का बेटा काम पाने के लिए दर-दर भटक रहा…

इस पर किशोर ने कहा, “मै उस शख्स को कैसे मौका दे सकता हूं जो मेरे मुकाबले में है।” इस पर महमूद जोर से हंसे और बोले, ‘एक दिन मैं बड़ा फिल्मकार बनूंगा और देखना तब मैं तुम्हें अपनी फिल्म में रखूंगा।’ और फिर जैसा महमूद ने कहा था वैसा हुआ भी। जुवान के पक्कें महमूद ने अपनी फिल्म पड़ोसन में किशोर कुमार को अहम किरदार दिया।

अमिताभ बच्चन को कहते थे खत रनाक शै तान

अमिताभ बच्चन(Amitabh Bachchan) को महमूद साहब ने नाचना सिखाया था। ये किस्सा फिल्म ‘बॉम्बे टू गोवा'(Bombay to Goa) के गाने “देखा ना हाय रे सोचा ना हाय रे” की शूटिंग के समय का है। महमूद चाहते थे कि अमिताभ इस गाने पर डांस करे लेकिन अमिताभ को नाचना नहीं आता था। इसके बाद महमूद साहब ने उन्हें डांस सीखना शुरू किया। अमिताभ बच्चन महमूद साहब को ‘भाईजान’ कहते थे और महमूद साहब अमिताभ बच्चन को खत रनाक शै तान बुलाते थे।

Related Articles

Stay Connected

51,400FansLike
1,391FollowersFollow
23,100SubscribersSubscribe

Latest Articles