Story Of Phoolan Devi: जानिए पूरी कहानी…

आज हम उत्तरप्रदेश (Uttar Pradesh) के कानपुर (Kanpur) के बेहमई (Behmai) गांव की बात कर रहे हैं। जहां 40 साल पहले ऐसी लड़की ने जन्म लिया। जिसने अपने ऊपर हुए अनुचित कार्यों का बदला लिया था। किस तरह समाज के एक वर्ग ने एक साधारण लड़की (Simple Girl) को एक ड कैत बना दिया था। फिर एक शख्स उसके घर गया और खीर खाई जिसके बाद फूलन देवी (Phoolan Devi) को भगवान के पास भेज दिया। आइए विस्तार से बताते है पूरी खबर।

फूलन देवी का जन्म कहां हुआ?

कानपुर के एक गांव के बेहमई में फूलन देवी का जन्म हुआ। जिसकी छोटी उम्र में ही शादी हो गई थी। जिसके साथ उसकी शादी हुई थी। वह अधेड़ उम्र का व्यक्ति था। इसलिए बचपन से ही उसने बहुत कुछ सहा था। वह छोटी जाति से ताल्लुक रखती थी। कुछ उच्चवर्ग के लोगों ने उसके साथ ग लत काम भी किए। जिसने एक साधारण लड़की को फूलन देवी बना दिया था। बाद इस लड़की को बैंडिट क्वून के नाम से जाना जाने लगा।

फूलन देवी ने एक लाइन में खड़े कर कर 22 लोगों को भेजा भगवान के पास

आपको बता दें कि  साधारण फूलन देवी अपने साथ अनुचित कार्यों से इतनी ख तरनाक हो गई । उसने उच्च जाति के 22 लोगों को एक एक लाइन में खड़े कर भगवान के पास भेज दिया था। इसके बाद एक बार इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) ने फूलन देवी से कहा तुम अब पुलिस को अपने आप को  दो । इसके बाद फूलन देवी कई साल जेल में भी रही। जेल से बाहर आने के बाद उसने राजनीति में कदम रखा।

Also Read:- सनातन धर्म की ले रहे शरण इस समुदाय के लोग….

शेर सिंह राणा ने फूलन देवी को भेजा भगवान के पास

अब चंबल की घाटी में रहने वाली फूलन देवी अब बड़े बंगले में रहने लगी थी और अब वह सांसद (MP) का जी वन जी रही थी। एक बार दिल्ली (Delhi)  में शेर सिंह राणा (Sher Singh Rana) फूलन देवी से मिलने गया और बोलता है कि मुझे आपके समूह एकलव्य सेना से जुड़ना है। इसके बाद दोनों में बहुत देर तक बातें हुई और दोनों एक साथ खीर खाते हैं। लेकिन फूलन देवी को शेर सिंह राणा के मं सूबों का पता नहीं था। शेर सिंह राणा जब दरवाजे से बाहर जाता है तो अपनी बं दूक निकालता है और फूलन देवी पर चला देता है। उसके बाद फूलन देवी भगवान के पास चली जाती हैं।